संसदीय कार्य मंत्रालय, भारत सरकार

heBook
STQC Certificate
प्रस्‍तावना-02

प्रथम संस्करण की प्रस्तावना

1. कार्यालय पद्धति के पिछले संस्करण में संसद में प्रश्नों, विधि-निर्माण, संकल्पों और प्रस्तावों से संबंधित क्रिया-पद्धति का केवल एक अध्याय था। जब उपरोक्त नियम-पुस्तिका की 1971-72 में पुनरीक्षा की गयी तो यह अनुभव किया गया कि इस महत्वपूर्ण विषय को एक पृथक नियम-पुस्तिका में गहराई से प्रस्तुत करने की आवश्यकता है। ऐसा इसलिए आवश्यक समळाा गया जिससे कि संसदीय कार्य से संबंधित विभिन्न अनुदेशों को, जो कि इस समय बहुत से प्रकाशनों और परिपत्रों में बिखरे पड़े हैं, एक स्थान पर लाया जा सके। तदनुसार, कार्यालय पद्धति के नवीनतम संस्करण से संबंधित अध्याय और तत्संबंधी परिशिष्टों को निकाल दिया गया और मंत्रालयों में संसदीय कार्य को निपटाने के लिए एक पृथक नियम-पुस्तिका संकलित करने का कार्य प्रारम्भ किया गया।

2. प्रारम्भ में इस नियम-पुस्तिका का मसौदा इस विभाग में कार्यकारी दल के मार्ग दर्शन में तैयार किया गया था। इस कार्यकारी दल में संसदीय कार्य विभाग, विधि तथा न्याय मंत्रालय तथा कुछ अन्य विभागों के अधिकारी सम्मिलित थे। इस नियम- पुस्तिका के मसौदे को समस्त मंत्रालयों में परिचालित किया गया और उनके द्वारा व्यक्त किए गए विचारों को दृष्टिगत रखते हुए नियम-पुस्तिका को अन्तिम रूप दिया गया।

3. नियम-पुस्तिका को यथासंभव पूर्ण, शुद्ध तथा उपयोगी बनाने की ओर पूरा ध्यान दिया गया है। तथापि, इस नियम-पुस्तिका में सुधार तथा अनजाने में रह गई भूलों को शुद्ध करने के उद्देश्य से प्राप्त हुए सुळाावों का सानुग्रह स्वागत किया जाएगा और उन पर सावधानीपूर्वक विचार किया जाएगा।

एम. गोपाल मेनन

अपर सचिव तथा निदेशक

संगठन तथा पद्धति

नई दिल्ली, कार्मिक और प्रशासनिक सुधार विभाग

4 जुलाई, 1973 (प्रशासनिक सुधार)

[Home] [Back]