अध्याय - 6

राष्ट्रपति का अभिभाषण

भूमिका

6.1.1संविधान के अनुच्छेद 87(1) के अनुसार, प्रत्येक आम चुनाव के बाद लोक सभा के पहले सत्र के तथा प्रत्येक वर्ष के पहले सत्र के प्रारंभ होने पर दोनों सदनों के एकत्रित सदस्यों के समक्ष राष्ट्रपति अभिभाषण करते हैं और संसद को आहत करने का कारण बताते हैं। यह अभिभाषण सामान्यत: फरवरी मास में दिया जाता है और इसमें पिछले वर्ष में हुई महत्वपूर्ण घटनाओं की समीक्षा की जाती है और चालू वर्ष के लिए सरकार की नीतियों और कार्यक्रमों का स्पष्ट संकेत दिया जाता है।

लोक सभा नियम 16, 17, 20 राज्य सभा नियम 14, 15, 18

6.1.2अभिभाषण के बाद किसी सदस्य द्वारा प्रस्तुत तथा अन्य सदस्य द्वारा समर्थित धन्यवाद प्रस्ताव पर प्रत्येक सदन में अभिभाषण पर सामान्य चर्चा की जाती है। सामान्यत: चर्चा के दौरान उठाए गए प्रश्नों का उत्तर प्रधानमंत्री देते हैं। अन्य कोई मंत्री अपने विभाग से संबंधित मामलों के बारे में सरकार का दृष्टिकोण स्पष्ट करने के लिए अपने विवेकानुसार मध्यस्थता कर सकता है। तब धन्यवाद प्रस्ताव पर सदन में मतदान होता है।

राष्ट्रपति के अभिभाषण के लिए सामग्री

6.2प्रत्येक वर्ष दिसंबर मास में, प्रधानमंत्री कार्यालय, राष्ट्रपति के अभिभाषण में सम्मिलित करने के लिए विभागों से सामग्री भेजने के लिए कहता है। इसके बाद संसदीय कार्य मंत्रालय विभागों से पृथक रूप से अभिभाषण में उल्लेख करने योग्य विधायी प्रस्तावों की एक सूची देने का अनुरोध करता है। इस संबंध में निम्न प्रकार से कार्रवाई की जाएगी:-

(क) विभाग का यह अनुभाग, जिसे इस संबंध में समन्वय करने का कार्य सौंपा गया है, इन सूचनाओं के प्राप्त होने का पूर्वानुमान लगाते हुए, काफी समय रहते कार्रवाई आरम्भ करेगा और अन्य संबंधित अनुभागों से इस उद्देश्य से निश्चित तारीख तक उपयुक्त सामग्री उपलब्ध कराने के लिए कहेगा।

(ख) अनुभाग, सामग्री तैयार करेंगे और संबंधित संयुक्त सचिव का अनुमोदन प्राप्त करने के बाद इसे समन्वय अनुभाग को भेज देंगे।

(ग) समन्वय अनुभाग निम्नलिखित कार्रवाई करेगा:

(1)प्राप्त हुई सामग्री का समेकन और संपादन करेगा, जिससे वह सारे विभाग के लिए समग्र प्रलेख बन जाए;

(2)मंत्री का अनुमोदन प्राप्त करेगा; और

(3)सामग्री को प्रधानमंत्री कार्यालय/संसदीय कार्य मंत्रालय को, जैसा उपयुक्त समळाा जाए, उनके द्वारा निर्धारित तारीख को अथवा उससे पूर्व भेज देगा।

विभाग के अधिकारियों द्वारा उपस्थिति

6.3संसद यूनिट इस बात का ध्यान रखेगा कि राष्ट्रपति के अभिभाषण पर सामान्य चर्चा के समय विभाग से संबंधित जो मुद्दे (उप-पैरा 6.1.2 देखिए) उठाए गए हों, उन्हें नोट करने के लिए विभाग द्वारा, बारी-बारी से, एक अधिकारी को सरकारी दीर्घा में उपस्थित रहने के लिए भेजा जाए ताकि पैरा 2.9 में अपेक्षित अगली कार्रवाई की जा सके।

अनुवर्ती कार्रवाई

6.4संसदीय कार्य मंत्रालय द्वारा अभिभाषण की प्रतियां समस्त विभागों को भेजी जाती हैं। समन्वय अनुभाग संबंधित अनुभागों के साथ परामर्श करके इस अभिभाषण की जांच करेगा और इस संबंध में यथावश्यक अनुवर्ती कार्रवाई करेगा।

लोक सभा नियम 18

राज्य सभा नियम 16

6.5सदस्य विशेष मुद्दों की ओर ध्यान आकर्षित करते हुए धन्यवाद प्रस्ताव पर संशोधन प्रस्तुत कर सकते हैं। इस प्रकार के संशोधनों की सूचना प्राप्त होने पर अपेक्षाकृत अधिक महत्वपूर्ण मुद्दों के बारे में उपयुक्त सार तैयार किया जाएगा, जो कि मंत्री/प्रधानमंत्री के प्रयोग के लिए आवश्यक हो।

[ Home ] [ Next ] [ Back ]